हॉट गर्ल्स Xxx फक कहानी में मैंने अपनी एक दोस्त की मदद से उसकी सहेली को चोदा. फिर वो दोस्त भी मेरे लंड के लिए बेचैन हो गयी. तो उसे भी चोदा.

दोस्तो,
मेरा नाम पार्थ है और मैं 23 साल का 6 फीट की हाइट वाला लड़का हूं.

ये हॉट गर्ल्स Xxx फक कहानी शुरू होती है मेरी ऑनलाइन चैटिंग से.

मेरी एक ऑनलाइन फ्रेंड है, उसकी उम्र 28 साल की है लेकिन अभी तक उसने शादी नहीं की है.

हम दोनों एक दिन सेक्स के विषय पर बात कर रहे थे.

मैं उससे सेक्स के लिए पूछ तो नहीं पाया लेकिन मैंने मजाक में कह दिया- आपकी कोई फ्रेंड हो, तो मुझे सेक्स करना है.
उसने मजाक में हां कहा और हमारी बात खत्म हो गई.

एक दिन मुझे मेरी सहेली का कॉल आया और उसने कहा- उस दिन तुम सेक्स की क्या बात कर रहे थे ना?
मैंने कह दिया- हां यार, मेरी 23 साल की उम्र हो गई है और मैं अभी भी वर्जिन हूं.

उसने कहा- ओके … मेरी एक सहेली है दिया … वो 30 साल की है, तू उससे बात करेगा?
मैंने हां कहा.

फिर उसकी सहेली दिया का हैलो का मैसेज आया और उसने कहा- क्या हम कॉल पर बात कर सकते हैं?
दिया ने कॉल पर मुझसे डायरेक्ट कह दिया कि वो सेक्स करना चाहती है.

मैं उसकी स्पष्टवादिता से थोड़ा अचंभित हो गया.
मैंने भी पूछ लिया- कहां मिलना है?

हम दोनों अहमदाबाद में रहते हैं.
वो सरकारी अफसर थी, उसका क्वार्टर था, वहां वह अकेली रहती थी.

उससे मिलने जाते समय मैंने रास्ते में ही सेक्स की गोली खा ली थी.

फिर हम उसके घर मिले.
उसने शादी नहीं की थी.

उसने मुझे कॉफी दी.
हमने थोड़ी बहुत इधर उधर की बातें की.
दिया के बूब की साइज 34 की, कमर 30 की और गांड 36 की थी.
उसका रंग थोड़ा सांवला था. उसने ब्लैक जींस और पिंक शर्ट पहनी थी.

मैं उसकी चुस्त शर्ट में उसकी चूचियों के उभार देख रहा था.
उसने मेरी नजरों को भांपते हुए कहा- यहीं करना है सोफे पर … या बेड पर चलें?
मैंने कहा- पहले कालीन पर करते हैं, नीचे धक्के अच्छे लगते हैं.

उसने कहा- ओके, मैं चेंज करके आती हूँ.

मैंने कुछ नहीं कहा.
मन में तो आया कि चेंज क्या करना. यहीं नंगी हो जा.
मगर कह नहीं पाया और बस सोफे पर उसके आने इंतजार करने लगा.

वो वापस आई, उसको देखने के बाद मेरा खड़ा लंड एकदम से फट पड़ा.
वीर्य छूटने से पैंट में धब्बा बन गया और ऊपर से ही साफ़ दिखाई देने लगा.
उसने सफेद ब्रा और पैंटी के ऊपर नेट वाली पिंक बेबीडॉल पहन रखी थी.

मेरे लौड़े से रसधार टपकती देखकर वो हंसने लगी और बोली- इतने में ही झड़ गया … तू मुझे क्या चोदेगा?
मैंने कहा- एक बार शुरू हो गया तो रूकूंगा नहीं.
उसने कहा- ऐसा क्या … चलो देखती हूँ.

वो सोफे पर मेरे साथ बैठी, हमने एक लंबी किस की.
हमारी सांस फूलने लगी.
मैं उसकी गांड को मसल रहा था.

कुछ देर बाद मैं उससे शहद लेकर आने को कहा और उसके बदन पर लगाकर चाटने लगा.

मैं उसकी चूची को ब्रा के ऊपर से चाट चूम रहा था.
वो कामातुर हो गई थी और मेरे मुँह में अपनी चूची देने लगी थी.
मैं भी आक्रामक हो गया और उसकी पैंटी को फाड़ दिया.

वो मेरे सामने नीचे से नंगी हो गई थी.
ऊपर उसकी चूचियों पर अभी भी ब्रा लटकी हुई थी.
मेरी नजरें चूत पर टिक गईं.

आह क्या चूत थी साली की … बिल्कुल डबल रोटी की तरह एकदम फूली हुई.
चूत पर झांटों के छोटे छोटे रेशमी बाल थे.

मैंने चूत पर शहद लगाकर चाटना शुरू कर दिया.
वो मादक सिसकारियां ले रही थी.

तभी मैंने एक उंगली उसकी चूत में डाल दी.
उसकी चूत से एकदम से पिचकारी छूट गई.
चूत का पानी मेरे मुँह पर गिरा. मैंने चाट लिया.

कुछ देर बाद उसने कहा- अब दिखा अपने लंड को.
मैंने जॉकी की चड्डी पहन रखी थी, उसके ऊपर से लंड फूला हुआ दिख रहा था.

उसने मेरी चड्डी उतारी तो मेरा साढ़े छह इंच का लम्बा और पांच इंच मोटा लंड देख कर डर गई.

मैंने बोला- डर मत, ये खा नहीं जाएगा, कुछ नहीं होगा. आ जा इसे प्यार कर.
वो मेरे लंड को सहलाने लगी, फिर जीभ से चाटना शुरू किया.

धीरे धीरे वो लंड को मजे से चूसने लगी और लंड को गले तक ले जाने लगी थी.
मैंने उसको मुँह से चोदना शुरू किया.

थोड़ी देर में उसकी सांस फूलने लगी.
मैंने उसके मुँह से लंड निकाला.

मैंने उसको कालीन पर डॉगी स्टाईल में सैट किया और पीछे से थूक लगा कर लंड लगा दिया.
वो जब तक सम्भलती, मैंने एक करारा झटका लगा दिया.

उसके मुँह से चीख निकल पड़ी.
मेरा लंड मोटा था और चूत छोटी … इसीलिए अभी आधा लंड ही जा पाया था.

दस सेकंड के बाद मैंने फिर से एक जोर का धक्का मारा तो लंड पूरा अन्दर घुस गया.

मुझे थोड़ा गर्म महसूस हुआ तो मैंने लंड की तरफ देखा.
उसकी चूत से थोड़ा खून निकल आया था.

मैंने मजाक में उससे पूछा कि क्या तुम वर्जिन थी? खून निकल आया है.
उसने कराहते हुए कहा- भोसड़ी के इतना मोटा लंड इतना अन्दर जाएगा तो खून तो निकलेगा ना!
मैंने हंस कर कहा- चलो ठीक है, अब नहीं निकलेगा.

मैंने उसे पन्द्रह मिनट तक डॉगी स्टाइल में चोदा.
वो झड़ गई.

अब मैंने उसको गोदी में बिठाकर काऊ गर्ल स्टाईल में चोदना शुरू किया.
लगभग पांच मिनट के बाद वो रिवर्स काऊ गर्ल स्टाईल में आ गई.

अब मैं झड़ने वाला था.
मैंने उसकी चूत से लंड निकाला और उसके पेट पर झड़ गया.

अभी वायग्रा का पावर काम आया था.
लंड झड़ने के बाद भी अकड़ा हुआ था.

मैंने उसकी गांड के नीचे तकिया लगाया और फिर से लंड पेल दिया.
इस बार मैंने अलग अलग तरीके से काफी देर तक उसको चोदा.

अब वो थक गई थी.
इसलिए मैं उसको उठाकर बेडरूम में ले गया.

हम दोनों थोड़ी देर सो गए.
जब मैं उठा, तो वो नहीं दिखी.

मैंने आवाज दी.
वो एक बैग लेकर आई.

उसने बैग खोला तो उसमें कुछ सेक्स टॉयज थे.
मैंने उसके मम्मों को डोरी से बांध दिया और चूत में वाइब्रेटर चलाने लगा.
मैंने उसकी गांड में जैल लगाया और गांड में एक बट प्लग झटके से घुसेड़ कर लगा दिया.

वो चिल्लाई और कराह कर बोली- आंह मादरचोद … ऐसे थोड़ी ना कोई डालता है.
मैंने उसकी चिल्लपौं को अनदेखा किया.

उसने पूछा कि तुम अब गांड में लंड डालोगे क्या?
मैंने कहा- हां डार्लिंग.

वो बोली- नहीं पार्थ, उधर दर्द करेगा.
मैंने कहा- जब गांड मरानी नहीं थी तो बट प्लग क्यों लाई थी?

वो बोली- अरे यार वो तो पूरी किट में साथ में आता है न!
मैंने कुछ नहीं कहा, बस धीरे से उसकी गांड चाटना शुरू कर दिया.

लगभग बीस मिनट तक मैंने उसकी गांड चाटी.
वो अभी भी गांड मारने के लिए मना कर रही थी.

मैंने जब मनाया तो वो बोली- कंडोम पहनकर और साथ में तेल लगाकर ही गांड चोदना.
मैं कंडोम नहीं लाया था.

उसने कबर्ड में से डॉटेड कंडोम निकाला.
मैंने लंड पर उसे पहना और फिर ऊपर से तेल लगा कर लंड गांड में डालने की कोशिश की.

लेकिन लंड फिसल रहा था.
लंड पर तेल ज्यादा लग गया था और दिया की गांड वर्जिन थी.

मैंने उसे बातों में बहला कर उसकी गांड को ढीली होने दिया.
जैसे ही उसकी गांड ने छेद को ढीला छोड़ा, मैंने फिर से एक झटका लगा दिया.

मेरे लंड का टोपा अन्दर घुस गया.
उसके मुँह से और चूत से पानी निकल गया.
वो दर्द से तड़फ रही थी, मगर मैं लंड पेले पड़ा रहा.

फिर मैंने धीरे धीरे से स्पीड बढ़ाई.
अब लंड उसकी गांड में उसे लज्जत देने लगा था.

मैंने उसकी गांड को 25 मिनट तक चोदा.

अब मैं झड़ने वाला था, मैंने उससे कहा- जान मैं अब तुम्हारे मम्मों को चोदना चाहता हूँ.
वो हां कह कर नीचे बैठ गई.

मैंने उसकी लटकी हुई ब्रा को हटाया और उसके दोनों दूध के बीच में लंड फंसा कर चुदाई करने लगा.
वो भी अपने मम्मे दबा कर मेरे लंड का मजा ले रही थी.

पांच मिनट बाद मैं उसकी चूचियों में झड़ गया.

मैंने उसकी एक चूची को दबाते हुए पूछा- कैसा लगा?
वो बोली- तू तो 23 साल की उम्र में भी बहुत कुछ जानता है.

हम दोनों थक गए थे इसलिए थोड़ी देर के लिए सो गए.
फिर जाते वक्त वो मुझसे बोली- रुको, तुम्हारे लिए कुछ है.

उसने मुझे एक गिफ्ट दी.

मैंने हंस कर कहा- मैं जिगोलो थोड़ी ना हूं!
वो बोली- तू मेरा यार तो है, रख ले.
मैं घर के लिए निकल गया.

उसके बाद मेरी फ्रेंड निशा का मुझे कॉल आया कि कैसी लगी दिया?
मैंने कहा- वो तो जन्नत की हूर है.

‘अच्छा …. तो अब अपनी निशा को कब खुश कर रहे हो?’
मैंने कहा- जब निशा कहे … तब!
वो मुस्कुराने लगी.

मैंने निशा से मजाक में कहा- मैं ऐसी चुदाई करता हूं कि तुम दर्द से तड़प उठोगी!
वो बोली- इसी लिए तो तुम्हारे साथ सेक्स करना है.

मैंने कहा- ठीक है, बुलाओ कभी हवेली पर.
उसने हंस कर हामी भर दी.

फिर निशा ने दिया से बात कर ली थी.
हम दोनों दिया के फ्लैट पर सेक्स करेंगे, ये तय हो गया था.

एक रविवार को निशा का कॉल आया आज दिया के घर चलते हैं.
मैंने कहा- ओके.

वो गाड़ी लेकर मुझे लेने आ गई. हम दोनों वहां पहुंचे तो दिया शॉपिंग पर गई थी.

निशा येलो साड़ी में थी, उसकी गांड साफ़ साफ़ साफ़ दिख रही थी.
मैंने गांड पर एक चमाट मारी.
वो सिर्फ मुस्कुराई.

मैंने लंड को थोड़ा सहलाया और निशा को गोदी में बिठा लिया.
उसे चूमते हुए मैंने पूछा- तुमने और दिया ने शादी क्यों नहीं की?

वो बोली- करियर के कारण … बस अभी एक दो साल में करने वाली हूँ.
मैं- अच्छा … तो ये बताओ कि मेरे सिवाए कितने लंड लिए हैं?

वो बोली- दो, एक एक्स ब्वॉयफ्राइड का और एक जिगोलो का. लेकिन दोनों बिना दम के थे भोसड़ी के.

उसने स्लीव लैस ब्लाउज पहना था.
मैंने उसकी बगल को चाटना शुरू किया.

क्या खुशबू थी!

कुछ ही देर में मैंने उसकी साड़ी निकाल दी. उसका 34-30-38 का फिगर था.
उसकी गांड तो दिया से भी ज्यादा मस्त थी.

मैंने कहा- इतनी बड़ी गांड कैसे की?
वो बोली- जिम में खास कसरत करती हूँ.

ये कह कर उसने मुझे नंगा किया और सीधा मेरा लंड मुँह में ले लिया.
वो काफी देर तक मेरा लंड चूसती रही.

मैं उसके मुँह में ही झड़ गया. वो मेरा सारा रस खा गई.
अब मैंने उसकी ब्लैक पैंटी को निकाला और मैंने बिना चुत चूसे ही उसकी चूत में लंड पेल दिया.

निशा की चुत, दिया जितनी टाइट चूत नहीं थी इसीलिए बिना दर्द के लंड अन्दर चला गया.
सच कहूँ तो मुझे मजा नहीं आया.
साली रांड थी … भैन की लौड़ी कई लंड खा चुकी थी. मुझसे झूठ बोल रही थी.

मैंने उसे काफी देर तक चोदा.
इस दौरान वो झड़ गई थी.

मैंने उसकी चूत में ही माल निकाला.
फिर मैंने थोड़ा आराम किया.

अब वो फिर से तैयार थी. इस बार वो मेरे लंड को गांड में लेने के लिए रेडी थी.

मैं उसकी गांड और चूत में अन्दर तक जीभ डाल कर चाट रहा था कि तभी डोरबेल बजी.

निशा उठ कर बेडरूम में चली गई.
मैं चड्डी पहन कर दरवाजा खोलने गया.

दिया आई थी, वो अन्दर आ गई.
वो समझ गई कि हम लोग चुदाई कर रहे थे.
वो अलग रूम में जाने लगी.

मैंने कहा- चलो, हॉट गर्ल्स Xxx मजा करने आ जाओ.
उसने कहा- मेरा एक चचेरा भाई निशा को चोदना चाहता है, तू उसे मत बताना. जब वो आएगा तो हम चारों मिलकर करेंगे.

मैंने कहा- ठीक है.
फिर मैं बेडरूम में आ गया और दिया चेंज करने चली गई.

मैंने निशा के नीचे तकिया लगाया और लंड गांड में डालने की कोशिश करने लगा.
उसकी गांड भी दिया की तरह वर्जिन थी.

थोड़ी मेहनत के बाद लंड अन्दर चला गया लेकिन उतने में ही दर्द के कारण उसने हग दिया.
अब पुचक फुचक की आवाज आ रही थी.

गांड में चोदते हुए मुझे बीस मिनट हो गए थे.
इतने में दिया आई और उन दोनों ने एक लंबी किस की.

उसने निशा से पूछा- कैसा लग रहा है?
निशा बस मुस्कुरा दी.

मैंने दिया को करीब खींचा और किस किया.
अब मैं निशा की गांड में ही झड़ गया.
उसको गांड मरवाने की खुशी का मीठा दर्द हो रहा था.

मैंने निशा की गांड से लंड नहीं निकाला और उसे अपनी गोद में उठा लिया.
हम दोनों बाथरूम में गए और उसने मेरे लंड को साफ किया.

हम दोनों बाहर आए तो सोफे पर दिया का चचेरा भाई राहुल बैठा था.
वो 21 साल का था मगर किसी छोटे बच्चे जैसा लग रहा था.

दिया ने निशा से कान में कहा- इसको तेरे साथ सेक्स करना है.
निशा बोली- ठीक है.

मैं सोफा पर बैठा और दिया मेरी गोदी में.
निशा ने राहुल का लंड निकाला तो वो लूली निकली चार इंच की.

निशा ने हंसी रोकने की कोशिश की.
फिर उसने राहुल का लंड अपनी चूत में ले लिया.

अब तक दिया भी गर्म हो गई थी.
इसीलिए मैंने उसकी चूत में उंगली डाल दी.
पांच मिनट में उसका पानी निकल गया.

फिर मैंने दो उंगलियां डालीं.
वो तड़प रही थी और कह रही थी- पार्थ अब चोद दो ना!
लेकिन मैंने नहीं किया.

मैंने तीन उंगलियां डालीं, तो दर्द के कारण दिया की आंखों में आंसू आ गए.
अब वो रो पड़ी और उसने मुझसे कहा- प्लीज अब तो डाल दो.

मैंने लंड पेल दिया और दिया को लगभग आधा घंटा तक चोदा.
उधर राहुल तो पांच मिनट में झड़कर बैठ गया था.

दिया की चूत अब ड्राई हो गई थी इसलिए मेरे धक्के उसे भारी पड़ रहे थे.
वो बोली- प्लीज अब तो झड़ जाओ!
मैंने कहा- अभी नहीं.

मैंने राहुल से कहा- अपनी बहन को चोदेगा?
पहले वो शर्माया, फिर हां बोला.

लेकिन दिया ने ना कह दिया.
मैंने कहा- तेरी चूत गीली होगी तो सिर्फ राहुल के पानी से.

तब राहुल ने लंड डाल दिया.
राहुल को पांच मिनट से ज्यादा हो गए थे.

मैंने उससे निशा को काऊ गर्ल स्टाइल में लेने को कहा.
उसका लंड अभी भी दिया की चूत में था.
मैंने पीछे से साफ दिख रहे दिया की गांड के छेद में लंड डाल दिया.

दिया दर्द से चिल्ला उठी.
थोड़ी देर बाद उसे अच्छा लगने लगा.

अब राहुल का पानी निकल गया.
कुछ मिनट के बाद मेरा भी निकल गया.

दिया काफी थक गई थी तो मैंने उसको आराम करने दिया.

अब बारी थी निशा के साथ थ्री-सम की.
मैंने गोली ली थी इसीलिए मेरा लंड फिर से कड़क हो गया था.

मैंने निशा को चूत में चोदा और राहुल की लुल्ली ने उसकी गांड मारी.
निशा को मैंने बीस मिनट तक चोदा.

अब मैं बहुत थक गया था इसलिए मैं सोने के लिए लेट गया.

उतने में राहुल करीब आया और बोला- मुझे आपका लंड चूसना है.

मैंने कहा- चूस ले, मैं सो रहा हूँ.
उसने कहा- पहले मेरी गांड भी मारो, फिर सोना.

मैंने पूछा- क्या सच में?
वो बोला- हां.

अब मेरे नाग जैसा लंड उसकी गांड में घुस गया, तो उसको बहुत दर्द हुआ.
वो मुझे रुकने को बोला.

लेकिन मैं जब स्टार्ट होता हूँ तो पानी निकालने के बाद ही रुकता हूँ.
राहुल चीख रहा था.

उसकी बहन दिया को दया आई और उसने कहा- उसे छोड़ दो, मुझको चोदकर मेरी चूत में पानी निकाल लो.
मैंने वैसे ही किया.

इस तरह से उस दिन हम चारों ने खूब मजा किया.

उसके बाद मैंने निशा और दिया के साथ उसकी एक अन्य सहेली को भी चुदाई का मजा कराया है. वो सेक्स कहानी अगली बार लिखूंगा.
आप मुझे मेल करें बताएं कि हॉट गर्ल्स Xxx फक कहानी आपको कैसी लगी?
parthpatel8795@gmail.comCategories